रविवार, 18 नवंबर 2007

गुरू नानक जीवन गाथा(संक्षित)(गुरू नानक जयंति पर )



गुरू नानक देव जी के पावन जन्मदिवस पर जो की २४ नवम्बर२००७ को
मनाया जा रहा है।आप सब को बहुत-बहुत बधाई।


गुरू नानक देव जी का जन्म १४६९ को १५ अप्रेल को पंजाब के तलवंडी नामक एक गाँव में हुआ था। जो अब पाकिस्तान में है।उन का जन्म एक हिन्दू परिवार में हुआ था।उन के पिता का नाम मेहता कालू था और माता का नाम माँ तृपता जी था। उन की एक बड़ी बहन थी जिसका नाम बीबी नानकी जी था।

वह बचपन से ही बहुत मेधावी व शांत स्वाभाव के थे। उन में बचपन से ही प्रभू के प्रति प्रेम व समर्पण की भावना थी। कहा जाता है कि वह जब पैदा हुए थे रोने की बजाए हँसते हुए पैदा हुए थे। उन के जीवन में अनेक ऐसी घट्नाएं हुई जो उन के अवतारी पुरूष होनें का आभास कराती थी।

जब वह कुछ बड़े हुए तो उन्हें विधा प्राप्ती के लिए भेजा गया। अक्षरज्ञान प्राप्ती के बाद,उन्होनें अपनें गुरू से कहा कि "आप अपनें शिष्यों को सच्ची व नेक बातें बताईए...और साथ ही प्रभू के बारे में बताएं।’यह सुन उन का गूरू उन से बहुत प्रभावी हुआ। वहाँ उन्होनें अपनें गुरू को बहुत -सी प्रभु के बारे में गहन बातें भी बताई।

नौ साल की उमर में उन्हें हिन्दू परिवार में जन्म के अनुसार जनेऊं धारण करनें के लिए प्रेरित किया गया। लेकिन जब उन्हें जनेऊं पहनानें का समय आया तो उन्होनें जनेऊं पहननें से साफ इंनकार कर दिया। इस पर जनेऊं धारण संस्कार करवानें वाले पंडित ने पूछा कि आप जनेऊं पहननें से क्यों इंनकार कर रहे हैं?तब उन्होनों कहा कि इस जनेऊं के धागॊं को बाँधनें से क्या मेरे भीतर सत्य,संतोष,अहिंसा...आ जाएगी? यह धाँगा तो पुराना होनें पर टूट जाएगा या घिस जाएगा। तब क्या होगा? इस से क्या मेरा मन अपने बस में रहेगा और मै बुराईयों से दूर रहूँगा?...यदि आप को मुझे जनेऊं पहनाना है तो ऐसा जनेऊं पहनाईएं जो कभी भी ना टूटे और ना ही कभी पुराना पड़े। यह सुन सभी उन के तर्क पर हेरान हो गए।

उन के बचपन की एक घटना है ।एक दिन गर्मीयों की तपती दोपहरी को गाँयें चरा रहे थे तो वहाँ बड़ा-सा छायादार पेड़ दिखा ,जिसे देख वह कुछ देर सुस्तानें के लिए उस के नीचें लेट गए। लेकिन उन्हें वहाँ लेटते ही नींद आ गई और वह गहरी नीदं में सो गए। उन्हें यह याद ना रहा कि वे यहाँ गाँयें चरानें आएं हैं। उन की गायों ने पास के एक खेत को ही चर डाला। जब शाम को उन की नीदं टूटी तो वह अपनी गायॊं को लेकर वापिस घर लौट गए।


इस घटना को गाँव के ही एक निवासी रायबुलार ने देखा और जाकर उस खेत के मालिक को खबर दी कि नानक की गायों ने तुम्हारा सारा खॆत चर लिआ है। यह सुन कर उस खेत के मालिक ने जाकर इस बात की शिकायत नानक के पिता मेहता कालू जी को दी।यह सुन कर वह बहुत गुस्सा हुए। उन्होनें नानक को बुलाया और डाँटा। लेकिन नानक देव चुपचाप उन की बातें सुनते रहे। इस के बाद नानक के पिता नें खेत के मालिक से कहा कि आप अपना कोई आदमी खेत पर भेजों ताकी पता चल सके कि गायों ने कितना नुकसान किया है और तुम्हें कितना हर्जाना देना है। इस पर खेत के मालिक ने नौकर के साथ अपना एक विश्वसनीय आदमी उस के साथ भेजा। लेकिन वहाँ जाकर देखा कि खेत में कुछ भी नुकसान नही हुआ था। जब उन्होनें लौट कर यह बात बताई तो शिकायत कर्ता बहुत हेरान हुए।इस के बाद रायबुलार को बुलवा कर उस से पूछा कि तुमनें झूठ क्यों बोला। इस पर उसनें कहा कि मैनें झूठ नही बोला...लेकिन नानक की प्रभू भगती के प्रभाव से ऐसा हो गया होगा। कि खेत पहले जैसे हो गए। इसी तरह की अनेक घट्नाएं उन के जीवन में घटित हुई ।

जब उन के पिता ने देखा की नानक सदा प्रभू भक्ति में ही लगे रहते हैं तो उन्होनें उन्हें बीस रूपय देकर सच्चा सौदा कर धन कमानें के लिए भेजा। उन के संग उन का घरेलू नौकर भाई मरदाना भी उन के साथ था। उस समय व्यापार के लिए जाते हुए उन्हें रास्ते में,कई दिनों से भूखे साधु मिलें। उन साधुओं को देख कर उन का ह्रदय बहुत दुखी हुआ। तब उन्होनें अपने साथ आए नौकर मरदानें से कहा- पिता ने कहा था कि सच्चा सौदा करना। इन भूखे साधूओं को भोजन करानें से बड़ा सच्चा सौदा और क्या हो सकता है? यह कह कर उन्होनें सारे रुपये उन भूखे साधुओं के लिए भोजन पर खर्च कर दिए और घर लौट आए। उन्हें वापिस लौट कर आनें पर उन के पिता ने पूछा-"तुम व्यापार करने गए थे। कौन-सा व्यापार किया?"तब उन्होनें कहा आप ने सच्चा सौदा करनें को कहा था। इस से सच्चा सौदा कर के आया हूँ।" उन्होनें पूछा कितना लाभ कमाया? इस पर सारी बात उन्होनें अपने पिता को बताई।वह बात सुन कर उन के पिता ने उन्हें एक थप्पड़ जड़ दिया। इस पर उन की बड़ी बहन नानकी नें कहा की उन्हें ना मारें..क्यूँ कि उन की बहन उन्हें अवतारी बालक मानती थी।

जब उन के पिता ने देखा कि यह अभी भी अपनी प्रभू भक्ति में ही लगा रहता है , तो उन्होने उनका विवाह करा दिया। जिस से उन्हें दो संतानें प्राप्त हुई। जिन के नाम लक्ष्मी चंद और श्रीचंद जी थे।


सिख धर्म की नींव गुरू नानक देव जी ने ही रखी थी। वह सिखों के पहले गुरू थे।उन की लिखी रचनाएं "गुरू ग्रंथ साहिब" में दर्ज हैं।उन्होनें अपने जीवन काल में चार बड़ी यात्राएं की। यह यात्राएं उन्होनें अपनें विचारॊं को जन मानस तक पहुँचानें के लिए और उस समय लोगों में फैलें अंधविश्वास और कुरीतियों को दूर करनें के लिए की थी। आज ५००सालो से भी ज्यादा हो चुके हैं, लेकिन उन के कहे उपदेश आज भी सार्थक हैं और जन कल्याण करनें वाले हैं।उस समय जब प्राकृतिक रहस्यों को जाननें का कोई साधन भी नही था। उन्होनें उस समय अपनी दिव्य दृष्टि से देख कर जो बातें कहीं हैं वह आज भी विज्ञान की कसौटी पर एक दम खरी उतरती हैं। "जपुजी साहिब" उन की प्रथम बाणी है। जिस में प्रभू के स्वरूप को बताते हुए,प्राकृति के अनेक रहस्यॊं को भी बताया गया है। "गुरु ग्रंथ साहिब" में आप के मन में उठनें वाले हरेक प्रश्न का उत्तर मिल जाता है। चाहे वह परमात्मा प्राप्ती से संबधित हो या प्राकृतिक रहस्यों से ।

उन्होनें २२ सितम्बर १९३९ को ६९ वर्ष की आयू में अपनी भौतिक देह का त्याग किया।

2 टिप्पणियाँ:

Raj ने कहा…

तुहनु भी गुरू नानक देव जी दे पावन जन्मदिन दी बोत बोत बधाई।
सिख धर्म की नींव गुरू नानक देव जी ने ही रखी थी। ??????????

सतीश सक्सेना ने कहा…

आभारी हूँ आपका बलि साहब ! इस पोस्ट के लिए, आशा है और गुरुओं पर भी लिखते रहेंगे !
सादर !

एक टिप्पणी भेजें

कृपया अपनें विचार भी बताएं।