गुरुवार, 20 दिसंबर 2012

कबीर के श्लोक - १२१

ढूंढ्त डोलहि अंध गति , अरु चीनत नाही संत॥
कहि नामा किऊ पाईऐ , खिनु भगतहु भगवंतु॥२४१॥


कबीर जी कहते हैं कि नामदेव जी कहते हैं -जीव खोज खोज कर परेशान हो जाता है,लेकिन संत पुरुष पहचान में नही आता।भगवान की भक्ति करने वाला जीव फिर कैसे पहचाने भगवान के भक्त को ।

कबीर जी नामदेव जी के विचारों को व्यक्त करते हुए कहते हैं कि भक्ति करने वालों की संगति के बिना परमात्मा नही मिल सकता।जो जीव प्रभु की भक्ति तो करते हैं लेकिन भगत जनों को पहचान नही पाते,वे भटकते रह जाते हैं।अर्थात वे कहना चाहते हैं कि परमात्मा का भक्त परमात्मा के भक्त को पहचान लेता है।

हरि से हीरा छाडि कै , करहि आन की आस॥
ते नर दोजक जाहिगे , सति भाखै रविदास॥२४२॥


कबीर जी रविदास जी के विचारों को व्यक्त करते हुए कहते हैं कि परमात्मा को छोड़ कर किसी दूसरे से सुख पाने की आशा करनी ठीक ऐसा ही जैसे नरक में सुख पाने की आशा करना।ऐसी आशा करने वाले सदा दुखी ही रहते हैं।

कबीर जी कहना चाहते हैं कि किसी भी दुनियावी पदार्थ से सुख प्राप्त नही हो सकता।यदि किसी को सुख पानें की इच्छा है तो उसे उस परमात्मा की शरण मे ही जाना पड़ेगा।यदि जीव अन्य जगह सुख पाने की चाह में जायेगा तो अंतत: उसे दुख ही प्राप्त होगा।कबीर जी अपने इसी अनुभव को रविदास जी के शब्दो की मदद से हमे समझाना चाहते हैं।

12 टिप्पणियाँ:

Anita ने कहा…

सत्य वचन...परमात्मा के भक्त को एक भक्त ही पहचान सकता है और सुख केवल परमात्मा से ही मिल सकता है..आभार!

Bella ने कहा…

Hi dear friends... Please kindly visit www.dubaihotelsholiday.com Enjoy your best holiday ever with special discount up to 70% and instant confirmation.

SONU NANDESHWAR ने कहा…

Kabir aur Kabir ke dohe dono bhi muze kafi pasand hai.......Such a great everything.....It can be promote through massaging With free.....How?


Send Free Unlimited Sms Anywhere In India. No log in And No Registration
http://freesandesh.in

Dr.Nilam Gupta ने कहा…

बहुत ज्ञान वर्धक आपकी यह रचना है, मैं स्वास्थ्य से संबंधित कार्य करता है यदि आप देखना चाहे तो यहां पर click Health knowledge in hindi करें और इसे अधिक से अधिक लोग के पास share करें ताकि यह रचना अधिक से अधिक लोग पढ़ सकें और लाभ प्राप्त कर सके।

Vinay Singh ने कहा…

हैल्थ बुलेटिन की आज की बुलेटिन स्वास्थ्य रहने के लिए हैल्थ टीप्स इसे अधिक से अधिक लोगों तक share kare ताकि लोगों को स्वास्थ्य की सही जानकारिया प्राप्त हो सकें।

Kesehatan Badan ने कहा…

I was amused once when reading the information you have entered. Hopefully with this information could provide benefit to me and other members. thank you.

Mr Vadhiya ने कहा…

Nice Article sir, Keep Going on... I am really impressed by read this. Thanks for sharing with us. Railway Jobs.

savan kumar ने कहा…

अच्छी व सच्ची रचना...
http://savanxxx.blogspot.in

SEO ने कहा…



Love Stickers

Valentine Stickers

Kiss Stickers

WeChat Stickers

WhatsApp Stickers

Smiley Stickers

Funny Stickers

Sad Stickers

Heart Stickers

Love Stickers Free Download

Free Android Apps Love Stickers

SEO ने कहा…

Lucknow SEO

SEO Service in Lucknow

SEO Company in Lucknow

SEO Freelancer in Lucknow

Lucknow SEO Service

Best SEO Service in Lucknow

SEO Service in India

Guarantee of Getting Your Website Top 10

prateek singh ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
prateek singh ने कहा…

परमजीत जी आपने जिस प्रकार से कबीर जी के दोहों का शाब्दिक अर्थ स्पस्ट किया है वह बहुत ही अच्छा है इससे उनके दोहों का अर्थ सब तक आसानी से पहुँच सकता है आप इसी प्रकार से अपने लेख
शब्दनगरी पर भी प्रकाशित कर सकते हैं .........

एक टिप्पणी भेजें

कृपया अपनें विचार भी बताएं।